Delta Plus Variant India Delta Plus’ Variant In Madhya Pradesh, 2 Dead

देश में लोगो को मारने लगा डेल्टा प्लस वेरियंट

डेल्टा प्लस की वजह से मौते होना सुरु हो चुकी है ये वाकई गंभीर विषय है एक नयी चुनोती है अभी हम डेल्टा वेरियंट से उभरे भी नही थे की डेल्टा प्लस वेरियंट नयी चुनौती हमारे सामने आ चुकी है दोनों मौते मध्यप्रदेश से हुई है एक उज्जैन से और दूसरी भोपाल से क्या है इन मौतों के पीछे की अन्ध्रुनी पहलु वो में बता रहे है

डेल्टा प्लस वेरिएंट के बारे में क्या कुछ हमें जरुरी जानना चाहिए वो भी में आपको बता रहे है डेल्टा प्लस वेरिएंट से बचाओ को लेकर एक्सपर्ट ओपिनियन क्या है वो भी में आपको बताऊंगा लेकिन सबसे पहले आप ये जान ले की जो मौते हुई है मध्यप्रदेश में भोपाल और उज्जैन में उसके अंदरूनी पक्ष क्या है

तो सबसे पहले आप अगर बात करे तो उज्जैन की मौत की तो उज्जैन में इस महिला की मौत हुई है ये जो महिला थी वो अपने पति के साथ कोरोना संक्रमित हुई थी 17 मई को और 17 मई के बाद 23 मई को महिला की मौत हुई लेकिन जो अब पता चला है की वो डेल्टा प्लस वेरिएंट की वजह से हुई इसमे एक इम्पोर्टेंट पॉइंट यह है की जो महिला की मौत हुई थी उन्होंने टिका नही लगवाया था जबकि उनके पति को भी डेल्टा प्लस वेरिएंट पाया गया उन्होंने टिका लगवाया था वैक्सीनेट हो रखे थे वो इसलिए उनकी जान बच गई अगर

दूसरी मौत की बात करे तो भोपाल में एक व्यक्ति की मौत हुई है 13 मई को इस व्यक्ति की मौत भोपाल में हुई काफी दिनों से अस्पताल में भरती थे अब जाँच में पता चला है की वो जो मौत हुई थी वह डेल्टा प्लस वेरिएंट से हुई है
भारत में अभी 40 से ज्यादा मामले है अभी डेल्टा प्लस वेरिएंट के दुनिया में डेल्टा प्लस वेरिएंट पाँव पसार रहा है भारत में इसको लेकर गंभीर स्थिति बताई जा रही है क्यों की भारत में जो केसेस आ रहे है उसमे मौते भी शामिल है भारत में डेल्टा प्लस वेरिएंट को लेकर स्थिति ज्यादा गंभीर

इसलिए है क्यों की वेरिएंट ऑफ़ कन्सेर्न में रखा हुआ है और ख़ास कर तीन राज्यों के लिए तीन राज्य महाराष्ट्र मध्यप्रदेश और केरल इन राज्यों में ही डेल्टा प्लस वेरिएंट मिले है और मध्यप्रदेश में तो मौते भी हो गई है
इसके अलावा WHO ने चेतावनी दे राखी है क्यों की वैक्सीनेट हो चुके है लोग भी इसके चपेट में आ रहे है क्यों की इसके साथ हे ब्रिटेन ने लॉकडाउन बढ़ा दिया है डेल्टा वेरिएंट के ही कारण भारत में दूसरी लहर आई थी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *