Sun. Jan 29th, 2023

Sixer Web Series Review In Hindi

कहते हैं कि सबसे ज्यादा बिकती है क्रिकेट और फिल्म और अगर फिल्म क्रिकेट पर आधारित हो तो मजा दुगना हो ही जाता है ऐसे तो क्रिकेट पर बहुत सी फिल्में और वेब सीरीज बनती रहती है लेकिन जब छोटे शहरों के उंगली क्रिकेटर्स के जीवन को फिल्म के माध्यम से दिखाया जाता है जो असल जीवन के आम क्रिकेट प्रेमियों से रिलेट करें तो फिल्म देखते हुए उसके अनेकों पात्रों से हम खुद को रिलेट करने लगते हैं और ऐसे ही कुछ feel आती है जब हम TVF ऐप द्वारा निर्मित वेब सीरीज सिक्सर देखते हैं जो कि अमेजॉन शॉपिंग एप के मिनी टीवी सेक्शन में फ्री में देख सकते हैं इस webseries पर आज की चर्चा रहेगी.

Webseries क टेलर में जिस प्रकार से इस पूरी कहानी को भस्मासुर से कंपेयर करके दिखाएं गया था वह अद्भुत था भस्मासुर जिसे वरदान था कि वह जिस किसी के ऊपर हाथ रख दे वह भस्म हो जाए उसे किस प्रकार से विष्णु भगवान अपने ही सर पर हाथ रखने पर मजबूर कर देते हैं वही इस कहानी का थीम है.

Twist यह है कि क्या भस्मासुर अपने सर पर हाथ रखता है या नहीं कहानी इंदौर की है जहां लोगों में क्रिकेट को लेकर एक तरह का क्रेज दिखाया गया है युवाओं का क्रिकेट की तरफ रुझान इंटरनेशनल क्रिकेट में ना सही अपने लोकल क्रिकेट में नाम कमाने की ललक और केवल युवा ही नहीं वहां के मंत्री खिलाड़ियों के मां-बाप या वह मिडल एज में युवा अवस्था में क्रिकेट का शौकीन था लेकिन कुछ खास अचीव नहीं कर पाया उन सभी का क्रिकेट के प्रति जो रुझान दिखाया गया है series को रोचक बनाता है.

webseries के मुख्य पात्रों में shivank singh parihar badri chavan राहुल तिवारी कुणाल पंत suraj rikame बृजभूषण जैसे बेहतरीन कलाकार देखने को मिलते हैं.

कहानी के मुख्य पात्र निक्कू यानी शिवांकित सिंह परिहार का नाम इस वेब सीरीज के क्रिएटर्स में भी आता है और कहानी भी इसी कैरेक्टर के इर्द-गिर्द घूमती है लीड एक्टर होने के बाद भी इस कैरेक्टर को एक आम फिल्मी हीरो जैसा भगवान राम की तरह नहीं दिखाया गया है बल्कि इसमें कुछ रावण तो कुछ कृष्ण तो कुछ जगह शकुनी मामा वाले अंश डाले गए हैं जो इसे ग्रे शेड देने का काम करता है.

जी अपना हीरो बहुत साफ सुथरे या अच्छे व्यक्तित्व वाला नहीं था वह कुछ मामलों में सेल्फिश है तो कुछ मामलों में सेल्फ रिस्पेक्ट की खातिर पैसों को भी ठुकरा ने में पीछे नहीं हटता इस किरदार को आज के माहौल में के लड़को को रखा गया है वह पहले अपना सोचते है वहीं बद्री चमन के रूप में आपको अपनी लाइफ का वह दोस्त याद आएगा जो क्रिकेट के प्रति पैशनेट भी था दोस्ती के प्रति वफादार भी और अच्छे बुरे वक्त में साथ खड़ा रहता था.

यह एक ऐसा कैरेक्टर है युवाओं को अपने किसी दोस्त की झलक देखने को मिलेगी इसी प्रकार से छोटे शहरों में अक्सर कुछ सीनियर जिन्हें भैया कहकर बुलाते हैं वह भी इस वेब सीरीज के सपोर्टिव कास्ट में देखने को मिलते हैं तो इंदौर की इस शहर की कहानी कब शुरू होती है जब वहां के MLA एक बहुत बड़े टूर्नामेंट की घोषणा करते हैं जिसमें विजेता टीम के लिए 5,00000 का इनाम रखा जाता है.

उनके विनिंग प्राइज मनी में 20 परसेंट तेरा इसके बाद शुरू होता है टीम का रजिस्ट्रेशन का सिलसिला टीम के 11 मेंबर्स को पूरा करने की होड़ और एक दूसरे से बेहतर टीम बनाने की आग वेब सीरीज में कई मौकों पर रोमांचक क्रिकेट देखने को मिलता है जो सींस को इंटरेस्टिंग बनाता है स्क्रीनप्ले बहुत अच्छा है या कम समय में अनेकों भावनाओं को सफलतापूर्वक महसूस कराया गया या फिर निक्कू का घर उसके पिता की स्थिति हो या सिर्फ एक थप्पड़ से MLA का व्यक्तित्व दिखाना हो राजेश भैया की क्रिकेट पर घरेलू पाबंदी को दिखाना होगी।

क्रिकेट एकेडमी के बीच किए को दिखाना की अद्भुत कला टीवी आपके writers में हमेशा से रही है शायद यही कारण है कि अक्सर टीवीएस की सीरीज लोगों के हाइट को छूती है शिवांकित सिंह परिहर का एक्टिंग रेंज बहुत बड़ा है वह रवीश कुमार के तौर पर जितनी अच्छी कॉमेडी करते हैं उतना ही सीरियस ही अग्रेषित कैरेक्टर करने की क्षमता भी उनमें है और यही एक अच्छे एक्टर की पहचान होती है जो खुद को पानी की तरह जिस बर्तन में गिरे उसी का आकार ले ले यानी जो रोल करें उसी में अपना बेस्ट दे दे बद्री चौलागेन एक इंटरनेट सेंसेशन है जो कई सारी वीडियोस में अपनी बेहतरीन एक्टिंग साबित कर चुके हैं.

फ्रीज में वह बैलेंस के दोस्त का रोल निभाते हैं जो सिचुएशन को समझते हुए हमेशा उसे संभालने का काम करते हैं और एक ऐसा दोस्त हर किसी के जीवन में होता ही है तो आप इस कैरेक्टर से काफी डिलीट करेंगे वहीं अरशद के किरदार में सूरज और संजय सोनी के रोल में कुणाल पंथ भी अपने किरदार को बेहतरीन निभाते हैं 18 को किस प्रकार से छोटे शहर के बड़े क्रिकेटर की भूमिका निभाई है वह जबरदस्त है जिस तरीके का एटीट्यूड वो रखते हैं जिस तरह का उनका एक्सेंट रहता है वह आपको एक नए नए फेमस हुए आईपीएल प्लेयर के काफी क्लोज लगेगी इनके अलावा एमएलए अनंत प्रताप सिंह के किरदार में प्रशांत सिंह का छोटा सा रोल मुझे पर्सनली बहुत अच्छा लगा हम डायलॉग थे और अपीयरेंस भी ज्यादा नहीं है.

लेकिन एक लोकल एमएलए का किस तरह का एटीट्यूड रहता है वह किस तरीके से चीजों को देखता है वह कैसे युवाओं के बीच खुद को दिखाने की कोशिश करता है वह सब बेहतरीन है वेब सीरीज में जिस प्रकार से बीच-बीच में नए-नए क्रिकेट धुरंधरों की एंट्री दिखाई जाती है वह क्रिकेट मैच को रोचक बनाती है और सबसे अच्छी बात क्योंकि ग्रैंड एंट्री के बाद भी उन्हें आम बातचीत या डायलॉग के माध्यम से 3:00 का हिस्सा नहीं बनाया गया जिसके बेहतरीन स्क्रीनप्ले का एक और नमूना है बहुत कमाल के कैमरा एंगल्स फिल्म को इंटरेस्टिंग बनाते हैं शुरुआती सीन में निक्कू के घर के छत पर जिस तरीके से ड्रोन शॉट के माध्यम से पूरे इंदौर और निक्कू को छत पर सोई दिखाएं गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.